Ashwani Raghav"Ramendu"

"अक्से खुश्बू हूँ, बिखरने से न रोके कोई,
"और बिखर जाऊँ तो मुझको न समेटे कोई"