Sanatan Satya

Writers, thinkers, bloggers - Desire is a swirl web, which a person himself weaves by working hard every day. A person has the right to weave a net, but only nature has the right to break it. Nature has such a law that no one can transfer the fruits of his actions to another. (लेखक, विचारक,ब्लॉगर-चाहत एक भंवर जाल है, जिसे व्यक्ति स्वयं प्रतिदिन कड़ी मेहनत करके बुनता है। व्यक्ति को जाल बुनने का अधिकार है, लेकिन उसे तोड़ने का अधिकार केवल प्रकृति को है।प्रकृति का ऐसा विधान है कि कोई अपने कर्म फल को दूसरे को हस्तांतरित नहीं कर सकता।)