Smit Singh

दूर समुन्दर...इक़ कश्ती...हवा का झोंका और एक आवाज़