surendra567

जिस रोज पैदा होते हैं हम
उस रोज बहुत खुशियां मनाई जाती है..

बचपन से लेकर बुढ़ापे तक
सपनों की एक दुनिया सजाई जाती है..

खुशी और ग़म की आँखों से
ज़िन्दगी की तस्वीर दिखाई जाती है..

जिस रोज मरते हैं हम
उस रोज हमारी खूबियां बताई जाती है..!!
_____________@_____________
जय श्री राधे कृष्णा जी